वेब कहानियां

Aiims: साइबर हमला झेलने के बाद फिर से संभला एम्स

Cyber Attack के दो हफ्ते बाद एम्स में ज्यादातर सुविधाएं बहाल

E Hospital के सभी डेटा नए सर्वर पर रिस्टोर्ड

नई दिल्ली। टीम डिजिटल : साइबर हमले (cyber attack) के बाद एम्स (Aiims) में क्या हालात हैं, ( situation in AIIMS after cyber attack) इसका उत्तर लोकसभा में सरकार की ओर से दिया गया है। एक प्रश्न के लिखित उत्तर में स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने कहा कि एम्स के जो पांच फिजिकल सर्वर साइबर हमले में प्रभावित हुए थे और जिनपर एनआईसी के ई-हॉस्पिटल (E Hospital) एप्लिकेशन को होस्ट किया गया था, उन्हें नए सर्वर के साथ रिस्टोर कर लिया गया है। राज्य मंत्री ने हैकर्स द्वारा किसी विशेष राशि की फिरौती मांगे जाने की बात से इंकार किया। उन्होंने यह भी खुलासा किया कि सर्वर में एक संदेश पाया गया था, जिसमें यह बताया गया था कि यह एक साइबर हमला है। 

एम्स मेें ज्यादातर सुविधाएं बहाल

साइबर हमला झेलने के बाद फिर से संभला एम्स
साइबर हमला झेलने के बाद फिर से संभला एम्स
राज्य मंत्री ने लोकसभा को जानकारी दी है कि साइबर हमले के दो हफ्ते बाद एम्स में अस्पताल के ज्यादातर कार्यों को बहाल कर दिया गया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि एम्स ने सभी डेटा को सुरक्षित करने के लिए तत्काल उपाए किए गए हैं। 

एम्स साइबर हमले में चीनी कनेक्शन 

एमओएचएफडब्ल्यू के सीनियर अधिकारी के मुताबिक एम्स साइबर हमले में चीनी हैकरों की भूमिका सामने आई है। हैकरों ने एम्स के 5 फिजिकल सर्वर को हैक कर लिया था। इस बाबत दर्ज कराए गए एफआईआर के मुताबिक इस हमले को चीन से अंजाम दिया गया था। साइबर हमले में 100 सर्वरों मेें से 5 में अटैकर्स धुसपैठ करने में कामयाब रहे। 

साइबर सुरक्षा को लेकर सरकार प्रतिबद्ध

साइबर हमला झेलने के बाद फिर से संभला एम्स
साइबर हमला झेलने के बाद फिर से संभला एम्स
यहां बता दें कि 14 दिसंबर को केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने लोकसभा में बीजेपी सदस्य सुकांत मजूमदार के प्रश्न के उत्तर देते हुए देश में साइबर सुरक्षा से संबंधित इंतजाम को पुख्ता किए जाने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि देश में हर दिन लाखों साइबर हमले होते हैं, लेकिन ज्यादातर हमलों को रोकने में कामयाबी मिलती है। वैष्णव के मुता​बिक, देश में साइबर सुरक्षा को लेकर बहुआयामी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया था कि आज की डिजिटल अर्थव्यवस्था में सरकार से जुड़े तत्वों (स्टेट एक्टर्स) और सरकार से इतर तत्वों (नॉन-स्टेट एक्टर्स) से जिस तरह के खतरे होते हैं, उन खतरों से निपटने के लिए बेहद तेजी से कार्य किए जा रहे हैं। 

ऑनलाइन ओपीडी अपॉइंटमेंट की सुविधा बहाल 

सीधे ओपीडी काउंटर से पर्चा भी बनवाया जा सकता है। 
इसके अलावा टेलिफोन और वेबसाइट द्वारा भी ओपीडी अपॉइंटमेंट लिया जा सकता है।

ऐसे कराएं पंजीकरण   

ORS पोर्टल (https://ors.gov.in) पर जाएं. 
AIIMS कैटिगरी में AIIMS Delhi चुने।
इसके बाद Appointment के विकल्‍प को चुनें.
फिर New Appointment पर क्लिक करें। 
कहां दिखाना है यह जानकारी मांगी जाएगी।
अगर मेन कैंपस की ओपीडी में डॉक्टर से दिखाना है तो ‘Main Hospital, Rajkumari Amrit Kaur (RAK) Out Patient Department को चुने। 
इसके बाद डिपार्टमेंट सिलेक्ट करें। 
फिर तारीख चुने। 
तारीख भरने के बाद ORS पोर्टल पर रजिस्‍टर या लॉगिन करें। 
प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद कन्‍फर्मेशन SMS प्राप्त होगा।  

टेलिफोन पर भी ले सकते हैं अपॉइंटमेंट?

011-26589142 पर फोन करके ओपीडी अपॉइंटमेंट ले सकते हैं। 
अपॉइंटमेंट सुबह 8:00 बजे से रात 8:00 बजे लिया जा सकता है। 
Read : Latest Health News|Breaking News |Autoimmune Disease News |Latest Research | on https://caasindia.in | caas india is a Multilanguage Website | You can read news in your preferred language. Change of language is available at the beginning of the post (before the highlights). Photo : freepik

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *